DU : डीयू में नहीं मिला दाखिला तब भी हैं कई विकल्प ?

दिल्ली विश्वविद्यालय में ऊंची कटऑफ होने या प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण नहीं हो पाने के कारण स्नातक में दाखिला नहीं ले पाने वाले छात्रों को पढ़ाई के लिए विकल्प की कमी नहीं है। ये छात्र डीयू के कॉलेजों में चलने वाले तमाम डिप्लोमा व सर्टिफिकेट कोर्स कर नौकरी पा सकते हैं। यही हीं इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के अलावा डीयू के ही स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग में दाखिला ले सकते हैं।

एसओएल में स्नातक के दाखिले 30 नवंबर तक ही डीयू में एसओएल के दाखिले 30 नंवबर तक ही होंगे। एसओएल के विशेष कार्य अधिकारी प्रो.उमाशंकर पांडेय ने बताया कि जिन छात्रों को डीयू के रेगुलर कोर्स में दाखिला नहीं मिला है उनके लिए एसओएल एक बेहतर विकल्प है। यहां हम छात्रों के लिए एडुकेट कोर्स, इंटरप्रेन्योरशिप, कैंपस प्लेसमेंट के अलावा ई लर्निंग, इंग्लिश स्पीकिंग सहित कई जॉब ओरिएंटेड प्रशिक्षण दिए जाते हैं। हर बार एसओएल के लिए आवेदन की तिथि बढ़ती थी लेकिन इस बार एसओएल में आवेदन की तिथि 30 नवंबर के बाद नहीं बढ़ेगी।

डीयू में एसओएल में रेगुलर कोर्स के दोगुने छात्र दाखिला लेते हैं। दाखिला लेने वाले ऐसे छात्र भी हैं, जो पढ़ाई के साथ प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं या नौकरी करते हैं। डीयू के विभिन्न केंद्रों पर स्नातक की कक्षाएं सप्ताह में दो दिन शनिवार और रविवार को चलती हैं।

स्नातक के कोर्स
बी.ए (प्रोग्राम)
बी.ए अंग्रेजी (ऑनर्स)
बी.ए राजनीति विज्ञान (ऑनर्स)
बीकाम (प्रोग्राम)
बी.कॉम (ऑनर्स)

एसओएल और रेगुलर का पाठ्यक्रम एक डीयू में रेगुलर और दूरस्थ शिक्षा दोनों माध्यम से पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए पाठ्यक्रम एक ही है। च्वाइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम लागू होने के कारण अब जो पाठ्यक्रम रेगुलर मोड में पढ़ाया जाएगा, वही पाठ्यक्रम डिस्टेंस मोड में भी पढ़ाया जाएगा।

आवेदन के समय ही भरी जाती है फीस आवेदन फॉर्म भरते समय आवेदन शुल्क का भुगतान भी करना होगा। आवेदन शुल्क का भुगतान केवल ऑनलाइन माध्यम के जरिए ही किया जायेगा। छात्र नेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के माध्यम से आवेदन शुल्क का भुगतान कर सकेंगे। इसकी फीस लगभग 3500 रुपये है।

Leave a Comment