रोहतक रोड पर मृतक चालक का शव रखकर परिजनों ने लगाया जाम, प्रदर्शन

भिवानी : रोहतक रोड स्थित एमसी कालोनी मोड़ पर टैक्सी स्टैंड से बुधवार स्कॉडा गाड़ी बुकिग कर ले जाने व गोली मारकर गांव कोहाड़ में फेंके गए चालक पालुवास निवासी प्रदीप का शव रखकर परिवार के लोगों ने जाम लगा दिया। एक घंटे तक परिवार व ग्रामीणों ने जाम लगाए रखे। प्रदीप की शुक्रवार रात को अग्रोहा मेडिकल कालेज में मौत हो गई थी। परिजनों ने हत्यारों की गिरफ्तारी व आश्रितों को नौकरी देने की मांग की। डीएसपी हेडक्वार्टर वीरेंद्र सिंह ने मौके पर पहुंच कर उन्हें सांत्वना दी और हत्यारों को तीन दिन के अंदर गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। साथ ही सरकार से आर्थिक सहायता दिलाने का भी आश्वासन दिया। जिसके बाद स्वजनों ने जाम खोला और शव का दाहसंस्कार किए जाने के लिए तैयार हुए।

एमसी कालोनी मोड़ स्थित टैक्सी स्टैंड से 20 जनवरी बुधवार को गांव पालुवास निवासी प्रदीप की स्कॉडा गाड़ी चार युवक गांव कोहाड़ के लिए किराए पर कर ले गए थे। वहां पर प्रदीप को पांच गोली मारकर घायल कर दिया था। बदमाश उसे तड़पता हुआ वहां फेंक कर उससे मोबाइल फोन, सोने की चेन, अंगूठी, पर्स व गाड़ी लेकर फरार हो गए थे। राहगीरों ने घायल प्रदीप को सामान्य अस्पताल पहुंचाया था। चालक प्रदीप तीन दिन दिन अग्रोहा मेडिकल कालेज में जिदगी व मौत से जूझता रहा। शुक्रवार देर रात को उसकी मौत हो गई। शनिवार शाम को अग्रोहा से पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव लेकर परिजन सीधे एमसी कालोनी मोड़ पहुंचे। वहां पर सड़क पर शव को रख कर जाम लगाकर नारेबाजी की। ग्रामीणों ने बदमाश गिरफ्तार ना किए जाने पर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की।

प्रदर्शनकारियों के गुस्से व संख्या को देखकर वहां पर भारी संख्या में पुलिस बल बुलाया गया। करीब एक घंटा तक रोहतक रोड मार्ग को बाधित रखा। गांव गोलागढ़ के पास खून से सनी मिली थी प्रदीप की स्कॉडा गाड़ी

गांव गोलागढ़ के सरकारी स्कूल के पास वीरवार सुबह प्रदीप की स्कॉडा गाड़ी लावारिस हालत खड़ी मिली। गाड़ी खून से सनी हुई थी और गाड़ी की ड्राइवर सीट पर खून बिखरा था। सिवानी डीएसपी, जुई कलां एसएचओ व एसएफएल टीम ने मौके पर पहुंच कर घटना की जांच की। उसके सिर व पीछे की तरफ पांच गोलियां मारी हुई थी। पुलिस ने गाड़ी को अपने कब्जे में लिया था। पुलिस ने मृतक के भाई मुकेश के बयान पर मामला दर्ज किया था, लेकिन घटना के तीन दिन बाद भी आरोपित गिरफ्तार नहीं किए गए।

चार्ज संभालते ही एसपी के सामने खड़ी हुई चुनौतीसफीदों से आए नए पुलिस अधीक्षक अजीत सिंह शेखावत ने शनिवार को ही चार्ज संभाला है। उनके चार्ज संभालते ही इस घटना को ट्रेस आउट करने व अपराध पर अंकुश लगाने की बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है।

हत्यारों को जल्द ही गिरफ्तार करने, आर्थिक सहायता दिलवाने की मांग थी। हत्यारों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पीड़ित परिवार को नियमानुसार आर्थिक सहायता दिलवाई जाएगी। हत्यारों की गिरफ्तार के बाद ही पूरा मामला साफ हो पाएगा। इस आश्वासन के बाद परिजनों ने जाम खोल दिया और शव को गांव ले जाकर दाहसंस्कार किया।

Leave a Comment