हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की तबीयत बिगड़ी, फेफड़ों के संक्रमण के चलते रोहतक PGI से मेदांता रेफर

Haryana health minister Anil Vij inaugurates plasma bank at PGIMS in Rohtak  - cities - Hindustan Times

 रोहतक। हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की हालत में ज्यादा सुधार नहीं हो पाया, इसलिए पीजीआइ रोहतक के डॉक्टरों की सांसें फूली हुई है। आनन-फानन में पीजीआइ की टीम ने दिल्ली एम्स के डॉक्टरों का सहारा लेना उचित समझा। एम्स की एक टीम देर रात रोहतक पहुंची और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की जांच की। हालत में सुधार नहीं होता देख मंगलवार शाम को अनिल विज को मेदांता अस्‍पताल में रेफर करने का फैसला लिया गया है। उनके फेफड़ों में संक्रमण ज्‍यादा है। कुछ घंटे बाद वे मेदांता में पहुंच जाएंगे।

वहींं, हालातों के मद्देनजर नेताओं का पहुंचना भी शुरू हो गया है। हरियाणा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ आज रोहतक पीजीआइ में पहुंचे और अनिल विज के स्वास्थ्य का हालचाल जाना। बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से मुलाकात हुई है। उनका स्वास्थ्य ठीक है, मगर अभी संक्रमण ज्‍यादा है। उन्होंने कहा कि एम्स के डॉक्टरों का अनुभव अच्छा है, इसलिए उन्हें बुलाया गया है

रोहतक पीजीआइ में उपचाराधीन अनिल विज का हालचाल जानने पहुंचे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ओपी धनखड़। जागरण

ओम प्रकाश धनखड़ के अनुसार यदि मरीजों से परिजनों को मिलने वालों को मिलने दिया जाए तो मरीज जल्दी ठीक होता है। उन्होंने डॉक्टरों से आग्रह किया कि कोविड-19 नियमों का पालन करते हुए हर दिन कुछ एक लोगों को अनिल विज से मिलने दिया जाए, ताकि वह जल्दी ठीक हो सकेंं। गौरतलब है कि कोरोना पॉजिटिव होने के बाद 3 दिन पहले अनिल विज को रोहतक पीजीआइ में भर्ती करवाया गया था। उनको प्लाज्मा भी चढ़ाया गया बावजूद इसके उनकी हालत में काफी सुधार नजर नहीं आया, इसलिए एम्स के डॉक्टरों की एक टीम को बुलाया गया है ताकि उनका स्वास्थ्य में सुधार हो सके

बता दें, डाक्टरों ने गत दिवस ही उनकी दवाओं में थोड़ा बदलाव किया है। पहले दी जा रही एंटीबायोटिक को बदला गया है। इससे पहले उन्हें रविवार को प्लाज्मा थेरेपी दी गई थी। बताया जा रहा है कि मेदांता, एम्स के अलावा ऑस्ट्रेलिया के विशेषज्ञ चिकित्सकों से बातचीत की गई है। पीएमओ से लेकर सीएमओ कार्यालय तक उनके स्वास्थ्य का हालचाल पूछा जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने वॉलन्टियर्स के रूप में कोवैक्सीन परीक्षण के लिए टीका लगवाया था। इसके बाद वह कोरोना संक्रमित हो गए। हालांकि, डॉक्टरों का कहना है कि कोवैक्सीन कुछ दिन बाद काम करती है। 

https://chat.whatsapp.com/Bd8pbwXsp8CIbwJIgl7YJw
https://chat.whatsapp.com/Bd8pbwXsp8CIbwJIgl7YJw

Leave a Comment