चाचा की शादी के दिन लापता हुआ शौर्य का दो दिन बाद सिरसा ब्रांच में मिला शव, खुशियां हुई मातम में तबदील

कैथल जिले के गांव कौल से 2 दिन से लापता 3 साल के शौर्य का शव बुधवार को सिरसा ब्रांच नहर में खेड़ी मटरवा के नजदीक मिला है। लापता होने के बाद से पुलिस को सूचना दी गई थी, जिस पर पुलिस ने आशंका जताई थी कि बच्चा खेलते समय पास की नहर में गिरा होगा। जहां उसकी तलाश शुरू कर दी थी।

पुलिस ने डूबने की थ्यौरी पर काम करते हुए गोताखोर बुला लिए थे। गोताखोरों की टीम बच्चे को ढूंढ ही रही थी कि पानी में बच्चे का शव दिखा। जो 45 घंटे बीत जाने के बाद शव पानी के ऊपर आ गया था। करनाल के गांव अहमदपुर निवासी रोशन सिंचाई विभाग में चौकीदार के पद पर कार्यरत है।

जो परिवार के साथ कौल स्थित सिंचाई विभाग के रेस्ट हाउस में रहता है। रोशन के बड़े बेटे रामनिवास के दो बेटे थे। बड़े बेटे की उम्र 5 व छोटा 3 वर्षीय शौर्य था। सोमवार को रामनिवास के छोटे भाई की शादी थी। शौर्य चाचा की बारात में गया था। शाम को बारात आने के बाद शौर्य पैसे लेकर दुकान से खाने की चीज लेने गया, लेकिन वापस नहीं लौटा।

परिवार ने अपहरण की आशंका जताते हुए अज्ञात पर दर्ज करवाया था। डीएसपी रविंद्र सांगवान, ढांड थाना एसएचओ रामकुमार व सीआईए की टीमें जांच में जुटी थी। दादा नहर विभाग में चौकीदार होने के कारण विभाग का रेस्ट हाउस नहर किनारे बना है। इसलिए पुलिस को यह भी आशंका थी कि बच्चा खेलते समय नहर में गिर सकता है।

छोटे बेटे की शादी से पूरे परिवार में खुशियों का माहौल था। घर में पुत्रवधू का स्वागत हो रहा था। इसी बीच शौर्य सबकी आंखों से ओझल हो गया और सारी खुशियां मातम में बदल गई।

30 किमी दूर से ढूंढने का रखा टारगेट, 22 किमी पर मिला शव

ढांड एसएचओ रामकुमार ने बताया कि कुरुक्षेत्र से गोताखोर बुलाया गया था। बच्चा नहर में गिरने की आशंका के चलते नहर का पानी भी बंद करवा दिया था। पानी के बहने की गति व बच्चे के वजन से अनुमान लगाया गया कि बच्चा पानी में गिरा होगा तो वह सर्च अभियान के समय तक अधिकतम 30 किलोमीटर दूर जा सकता है।

इसलिए घर से 30 किलोमीटर आगे बच्चे को सर्च करने का टारगेट रखा गया, लेकिन वहां से वापसी में घर की तरफ बच्चे को ढूंढते हुए करीब 22 किलोमीटर पर बच्चे का शव पानी के ऊपर दिखा।

Leave a Comment