चंडीगढ़ में न पटाखे बिकेंगेन बजेंगे, बच्चों ने जलाए तो पेरेंट्स को हो सकती है,1साल कैद

इस दिवाली चंडीगढ़ में न पटाखे बिकेंगे और न ही बजेंगे। चंडीगढ़ प्रशासन ने डिजास्टर मैनेजमेंटं एक्ट 2005 के तहत पटाखे बेचने और जलाने पर रोक लगा दी है। निर्देशों में लिखा गया है कि कोरोना संक्रमण के खतरे और प्रदूषण को देखते हुए ये निर्देश जारी किए गए हैं। निर्देशों का उल्लघंन करने पर । साल की कैद् और जुर्माना लगाया जा सकता है। अगर वॉँयलेशन करने से दूसरों की जिंदगी खतरे में पड़ती है तो 2 साल की कैद भी हो सकती है।

धारा-18 के तहत। 1 से 6 महीने की कैद या सजा और मैक्सिमम 200-1000 रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है। अगर छोटे बच्चे भी पटाखे जलाते हैं तो जिम्मेदारी उनके माता-पिता की होगी। उन पर केस दर्ज होगा।

प्रशासन ने पटाखे बेचने के लिए दिए जाने वाले लाइसेंस का डों तो निकाल दिया था, लेकिन कह दिया था कि लाइसेंस मिलने से पहले पटाखों का स्टॉँक मत खरीदना। हालांकि कई लोगों ने ऑर्डर दे दिए थे। कुछ के पास पिछले साल का स्टॉक पड़ा था।

Leave a Comment