अब बुजुर्गों को नहीं काटने होंगे बैंक के चक्कर, घर बैठे मिलेगी पेंशन

यमुनानगर । अब बुजुर्गों को पेंशन व अन्य कामों के लिए बैंक जाने की आवश्यकता नहीं होगी. उन्हें घर पर ही बैंकिंग की सेवाएं दी जाएगी. बैंक में यदि बुजुर्ग जाते हैं,  तो वहा भी उनके लिए अलग से सहूलियत होगी. उनके बैठने से लेकर पानी पिलाने के लिए अलग कर्मचारियों को तैनात किया जाएगा.

Jatu Luhari Villagers jammed accused of firing on CIA
Jatu Luhari Villagers jammed accused of firing on CIA

यमुनानगर जिले के बैंकों की सबसे अधिक मिल रही है शिकायतें

70 वर्ष से अधिक के बुजुर्गों के लिए बैंकों में विशेष सुविधाएं दी जाएंगी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इस संबंध में सभी बैंकों को जरूरी आदेश जारी किए हैं. आरबीआई की टीम बैंकों में इन सुविधाओं की जांच भी करेगी. यमुनानगर जिले में निजी व सरकारी बैंकों की 200 से अधिक शाखाएं हैं. बात करें तो कुछ शाखाओं की हालत बेहद खराब है. यहां पर किसी तरह की कोई सुविधा नहीं है. बैंक कर्मी भी बुजुर्गों की समस्याओं को गंभीरता से नहीं लेते. सरकारी बैंकों में तो पानी की उचित व्यवस्था ही नहीं है. बैंकिंग लोकपाल के पास सबसे अधिक शिकायतें यमुनानगर के बैंकों की पहुंची है. हर दूसरी शिकायत यमुनानगर व अंबाला जिले से जुड़ी हुई है. उपभोक्ताओं का कहना है कि बैंक कर्मी उनकी बातें ही नहीं सुनते,  बैंक कर्मी सही जानकारी उपभोक्ताओं को नहीं देते. अधिकतर शिकायतें यही है कि बैंक ब्याज के बारे में भी पूरी जानकारी उपभोक्ताओं को नहीं देते हैं.

आरबीआई की गाइडलाइन फ़ॉलो ना करने वाले बैंकों पर की जाएगी कार्यवाही 

जब बैंक लोन देता है, तो वह सभी से  29 पेज पर 100 से अधिक शर्तो पर साइन करवाता हैं. कोई भी उपभोक्ता इन शर्तो कों नहीं पढ़ पाता. बैंक कर्मी बस यह कह देते हैं कि बस आप अब साइन कर दो,  शर्ते अंग्रेजी में लिखी हुई है. बैंकिंग लोकपाल जेएन नेगी ने बताया कि बुजुर्गों को बेहतर सुविधा देना बैंकों का कर्तव्य है. इस बारे में आरबीआई की गाइडलाइन भी जारी की गई है, लेकिन सभी बैंकों द्वारा इस गाइडलाइन को दरकिनार किया जा रहा है. इन पर जल्द से जल्द जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी.

Leave a Comment