प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन से की मुलाकात

Private School Association met Chairman of Board of Education
Private School Association met Chairman of Board of Education

Private School भिवानी : प्राइवेट स्कूलों के मुद्दों को लेकर प्रधान रामअवतार शर्मा के नेतृत्व में प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन भिवानी का राज्य स्तरीय प्रतिनिधिमंडल हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन डा. जगबीर सिंह से मिला। प्रतिनिधिमंडल में राज्यभर से आए प्राइवेट स्कूलों के संचालक मौजूद थे। बैठक सौहार्द पूर्ण माहौल में हुई।

Private School की ओर से प्रधान रामअवतार शर्मा ने बोर्ड चेयरमैन का अभिनंदन किया और ज्ञापन सौंपा। साथ ही प्राइवेट स्कूलों के सामने आ रही दिक्कतों से अवगत करवाया। बैठक में अपनी मांगें रखते हुए रामअवतार शर्मा ने बोर्ड चेयरमैन से अनुरोध किया कि ग्रामीण क्षेत्र के प्राइवेट स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों के सेंटर सरकारी स्कूलों के बच्चों की तरह ही उनके गावों में रखे जाएं। गावं से दूर परीक्षा सेंटर आने पर बच्चों को परीक्षा देने में बहुत दिक्कत होती है।

रामअवतार शर्मा ने कहा कि विशेष रूप से लड़कियां बसों में सफर करके सेंटर पर नहीं पहुंच पाती और इस वजह से उन्हें तनाव भी होता है। इससे उनका परीक्षा परिणाम भी प्रभावित होता है। बोर्ड चेयरमैन ने मांग मानते हुए आश्वासन दिया कि जितना सम्भव होगा परीक्षा सेंटर नजदीक से बनाए जाएंगे। एसोसिएशन की दूसरी मांग रखते हुए

रामअवतार शर्मा ने बोर्ड चेयरमैन से अनुरोध किया कि इस बार बोर्ड परीक्षाओं में ओएमआर शीट का प्रयोग न किया जाए। ये पहली बार है और इससे बच्चे दुविधा में होंगे और गलतियां करेंगे। बच्चों की ओएमआर शीट के साथ किसी तरह की प्रैक्टिस भी नहीं हुई है और ये निश्चित ही बच्चों में घबराहट का कारण बनेगा। इसलिए साधारण आंसरशीट पर ही पूरी परीक्षा ली जाये।

एसोसिएशन की तीसरी मांग बोर्ड चेयरमैन के सामने रखते हुए रामअवतार शर्मा ने मांग की कि जो सम्बद्धता का निरंतरता शुल्क बोर्ड द्वारा प्राइवेट स्कूलों से लिया जा रहा है, उसे खत्म किया जाए। खत्म करना सम्भव नहीं तो शुल्क की राशि आधी की जाए। एसोसिएशन ने चौथी मांग बोर्ड द्वारा आठवीं के बोर्ड की ली गई फीस रिफंड करने की रखी।

रामअवतार शर्मा ने बोर्ड चेयरमैन को अवगत करवाया कि पिछले कुछ वर्षों से बोर्ड लगातार आठवीं में बोर्ड की परीक्षाएं करवाने के नाम पर फीस ले रहा है। लेकिन अभी तक आठवीं में बोर्ड लागू नहीं हुआ है। इसलिए बोर्ड द्वारा ली जा रही फीस स्कूलों को रिफंड की जाए। राम अवतार शर्मा ने बोर्ड द्वारा प्राइवेट स्कूलों में प्रैक्टिकल परीक्षा लेने के लिए सरकारी शिक्षक भेजे जाने का मुद्दा उठाते हुए बोर्ड चेयरमैन से अनुरोध किया कि सीबीएसई के पैटर्न पर प्राइवेट स्कूलों के अध्यापक ही प्रैक्टिकल एग्जाम के लिए भेजे जाएं।

Leave a Comment