कोरोना वायरस का नया स्‍ट्रेन विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के लिए बना चिंता का सबब, जारी की चेतावनी

WHO expresses deep concern over new type of corona virus infection spread rapidly in European countries  Warning has also been issued
WHO expresses deep concern over new type of corona virus infection spread rapidly in European countries Warning has also been issued

WHO विश्व स्वास्थ्य संगठन यूरोपीय देशों में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के नए प्रकार के संक्रमण पर विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने गहरी चिंता व्‍यक्‍त की है। संगठन की तरफ से इसको लेकर चेतावनी भी जारी की गई है। संगठन की तरफ से कहा गया है कि कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए सभी एहतियाती उपायों को सख्‍ती से लागू किए जाने की जरूरत है।

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के यूरोपीय क्षेत्र के डायरेक्‍टर डॉक्‍टर हैंस क्लुगे ने कोपेनहागेन में इस संबंध में एक वर्चुअल प्रैस वार्ता को भी संबोधित किया है। उन्‍होंने इस दौरान कहा कि डब्‍ल्‍यूएचओ मौजूदा वर्ष की शुरुआत में चुनौतियों से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

उन्‍होंने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अब हमारे पास पहले से ज्‍यादा कारगर हथियार मौजूद हैं। उन्‍होंने ये भी कहा कि अब हम वायरस को लेकर पूरी तरह से अंजान भी नहीं रहे हैं। अब हम इसके बारे में काफी कुछ जानकारी रखते हैं। हालांकि उन्‍होंने माना कि पूरी दुनिया से ये संकट अब तक खत्‍म नहीं हुआ है। दुनिया के कई देश इसकी चपेट में अब भी हैं और बाहर आने की कोशिश कर रहे हैं। उन्‍होंने मौजूदा समय को इस लड़ाई के लिए काफी अहम बताया है।

क्‍लुगे ने इस बात पर भी जोर दिया है कि कोरोना से लड़ाई के लिए पूरी दुनिया में एक साझा मोर्चा बनाना होगा। इसमें विज्ञान, तकनीक, राजनीति का मेल होगा जो पूरी दुनिया को इस चुनौती से लड़ने और इससे बाहर निकलने में हमारी मदद करेगा। आपको बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के क्षेत्रीय कार्यालय ने वर्ष 2020 में अकेले यूरोप में कोरोना वायरस संक्रमण के दो करोड़ 60 लाख से अधिक मामलों की पुष्टि की थी। संगठन के मुताबिक इतने अधिक मामलों से यूरोप के अंदर आने वाले देशों की स्‍वास्‍थ्‍य प्रणाली पर बोझ काफी अधिक हो गया है।

WHO इनसे निपटने की चुनौती कहीं से भी कम नहीं है। संगठन के मुताबिक वर्तमान में भी 23 करोड़ लोग उन देशों में हैं जहां पर अब भी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू है। वहीं आने वाले दिनों में जिस तरह से कोरोना का नया प्रकार अपने पांव पसार रहा है तो कुछ अन्‍य देशों में भी लॉकडाउन लागू किया जा सकता है।

WHO ने अपनी सिफारिशों में संक्रमण के मामलों की तेजी से जांच करने, अनपेक्षित बीमारियों का पता लगाने और उनकी समीक्षा करने पर जोर दिया है। साथ ही ये भी कहा गया है कि इससे मिले आंकड़ां को दूसरे देशों और संगठनों के साथ साझा भी किया जाए। संगठन का कहना है कि यह एक चिंताजनक स्थिति है। लिहाजा पहले से अधिक तेजी से काम करने की जरूरत है। इस दौरान डब्‍ल्‍यूएचओ ने लोगों से भी अपील की है कि वो सभी जरूरी एहतियात बरतें जिससे वो खुद सुरक्षित रह सकें और दूसरों को भी सुरक्षित रख सकें।

Leave a Comment